UPTET Exam Syllabus 2019 Paper [1 & 2] Hindi/English PDF

  • Post Comments:0 Comments

UPTET Exam Syllabus PDF

पोस्‍ट हिन्‍दी में भी उपल्‍बध हैं में पढ़ने केे लिए यहां क्लिक करे

 Click Here

UP Teacher Eligibility Test (UPTET)
Detailed Syllabus & Exam Pattern Of UPTET

UP Government has recently published an advertisement for Uttar Pradesh Teacher Eligibility Test December 2019 (UPTET). This is a great opportunity for candidates looking for government jobs. Read this Article to know about vacancy important dates, Selection Procedure, Eligibility, How to Apply and More, Candidates Interested to the Following Vacancy & Full fill all the Eligibility Recruitment Are Requested to carefully Read the Full Notification & Submit their Online Application Before the given deadline through the direct link provided below so that you don’t miss this chance. Stay Connected with Us we will give you All the Further Updates of this Vacancy.

WWW.PRAVESHRESULT.COM
A One Solution Of All Your Government Job Related Queries
UPTET Exam Syllabus

All The Candidate Who is Going to Appear for the UPTET Examination can Check the Study Material Provided on this Page of Pravesh Result. Here we have Shared UPTET Exam Syllabus as well as Exam Pattern on this page for the Candidates easy Reference. You Can Also Download UPTET Syllabus PDF From Here and can Boost your Preparation Strategy to Perform well in the UPTET 2019 Written Examination.

UPTET| Exam Details

Uttar Pradesh has released a notification for UPTET Teacher Eligibility Test. Online Application is Invited for the Exam of UPTET. Candidates Can Check Eligibility Criteria, Apply Online Procedure & Other Related Information  

Conducting Organization UP Government
Post Name Uttar Pradesh Teacher Eligibility Test 
Application Mode   Online
CTET Syllabus  Click Here
CTET Previous Year Paper Click Here
Download Notification (UPTET) Click Here

UPTET | Selection Procedure.
Candidates applying for the posts of UPTET Test will be selected based on the following criteria:
Selection Process
UPTET Basic Education Board conducts UPTET  in order to shortlist eligible candidates to become teachers in the state of UPTET. On the basis of  UPTET candidates become eligible for teaching jobs in various government schools in the state of UPTET at the Primary level (Class I to Class V) and Upper Primary level (Class VI to Class VIII).

Uttar Pradesh consists of two papers. UPTET Paper I need to be given by candidates who want to teach Class I to Class V, that is at the primary level whereas UPTET Paper-II needs to be given by the candidates who want to become teachers for Class VI to Class VIII, that is at upper primary level. 

General category candidates who secure 60% marks in UPTET would be considered to have qualified UPTETexam whereas reserved category students who secure 55%  marks would qualify the UPTET  teacher eligibility test. Candidates who qualify the exam would be given the eligibility certificate which would be tenable up to 5 years.

UPTET| Exam Pattern.

Check Out UPTET Exam Pattern To Make a Perfect Strategy For Your Exam Preparation. UPTET Syllabus and Exam Pattern Help to get an Idea About the Difficulty Level of Exam and Type Of Questions Asked In Exam. Uttar Pradesh will Select Only Deserving and Talented Candidates in the  UPTET Written Exam. So You Have to Improve Your Subject Knowledge and Skills to solve As many Questions As you can in UPTET Teacher Eligibility Test Exam.

The pattern for both the papers in Uttar Pradesh Teacher Eligibility Test 2019 is more or less similar. However, the sections and their difficulty level vary as per the paper chosen.

  • Objective Type Paper
  • Maximum Marks:150
  • Number of Question : 150
  • Duration of Paper : 2 Hours and 30 Minutes
  • All Questions carry equal marks
  • There will be no Negative Marking

UPTET Section Division of Paper I is as follows:

Section Number of Question Total Marks
Child Development, Learning & Pedagogy 30 Question 30 Marks
1st Language (Hindi) 30 Question 30 Marks
2nd Language (Any one from English, Urdu & Sanskrit) 30 Question 30 Marks
Mathematics 30 Question 30 Marks
Environmental Studies 30 Question 30 Marks

UPTET  | Exam Syllabus

UPTET Paper I Detailed Exam Syllabus

In The UPTET Paper I There Are Mainly Five Sections Child Development, Learning & Pedagogy 1st Language (Hindi), 2nd Language (Anyone from English, Urdu & Sanskrit), Mathematics, Environmental Studies. We Suggest The Candidates To Focus On Only These Five Subjects And Practice As Much As You Can. Here We Are Providing You Detailed Syllabus UPTET Teacher Eligibility Test.

Paper I- Child Development, Learning & Pedagogy

Child Development: Concept of growth and development, Principles and dimensions of development. Factors affection development (especially in the context of family and school) and its relationship with learning. Role of Heredity and environment.

Meaning and Concept of learning and its processes. Factors of Affection learning. Theories of learning and its implication. How Children learn and think. Motivation and Implications for Learning.

Individual Differences: Meaning, types and factors Affection Individual differences Understanding individual differences on the basis of language, gender, community, caste & religion. Personality: Concept and types of personality, Factors responsible for shaping it. Its measurement. Intelligence: Concept, Theories, and its measurement, Multidimensional Intelligence

Understanding diverse learners: Backward, Mentally retarded, gifted, creative, disadvantaged and deprived, specially-abled. Learning Difficulties. Adjustment: Concept and ways of adjustment. Role of teacher in the adjustment.

Teaching-learning process, Teaching learning strategies and methods in the context of National Curriculum Framework 2005. Meaning and purposes of Assessment, Measurement and Evaluation. Comprehensive and Continuous Evaluation. Constriction of Achievement Test. Action Research. Right to Education Act 2009 (Role and Responsibilities of Teachers)

Paper I- Language 1(Hindi)

Unseen Prose Passage. Linking Devices, Subject-Verb Concord, Inferences Unseen Poem. Identification of Alliteration, Simile, Metaphor, Personification, Assonance, Rhyme. Modal Auxiliaries, Phrasal Verbs, and Idioms, Literary Terms: Elegy, Sonnet, Short Story, Drama Basic knowledge of English Sounds and their Phonetic Transcription

Principles of Teaching English, Communicative Approach to English Language Teaching, Challenges of Teaching English: Language Difficulties, Errors, and Disorders. Methods of Evaluation, Remedial Teaching.

Paper I- Language 1(English/ Urdu/ Sanskrit)

Comprehension, Pedagogy of language development, Language Skills.

Paper I-Mathematics
The whole number up to one crore, Place Value, Comparison, Fundamental mathematical operations: Addition, Subtraction, Multiplication, and Division; Indian Currency.
Concept of fraction, proper fractions, comparison of paper fraction of the same denominator, mixed fraction, comparison of proper fractions of unequal denominators, Addition, and Substation of fractions. Prime and composite number, Prime factors, Lowest Common Multiple (LCM) and Highest Common Factor (HCF).
University Law, Average, Profit-Loss, Simple interest.
Place and curved surfaces, plane and solid geometrical figures, prosperities of plane geometrical figures; pint, line, ray, line segment; Angle and their types. Length, Weight, Capacity, Time, measurement f area and their standard units and relation between them; Area and perimeter of plane surfaces of square and rectangular objects.
Nature of Mathematics/Logical thinking. Place of Mathematics in Curriculum. Language in Mathematics. Community Mathematics.
Evaluation through formal and informal methods. Problems of Teaching. Error analysis and related aspects of learning and teaching. Diagnostic and Remedial Teaching.

Paper I-Environmental Studies.
Family Personal relationships, nuclear and joint families, social abuses (child marriage, dowry system, child labor, theft); addiction (intoxication, smoking) and its personal, social and economic bad effects.
Clothes and Habitats – Clothes for different seasons; maintenance of clothes at home; handloom and power loom; habitats of living beings, various types of houses; cleanliness of houses and neighboring areas; Different types of materials for building houses.

Profession – Profession of your surroundings (stitching clothes, gardening, farming, animal rearing, vegetable vendor, etc.), small and cottage industries; major industries of Rajasthan State, Need for consumer protection, co-operative societies.

Public places and Institutions – Public places like school, hospital, post office, bus stand, railway station; Public property (street light, road, bus, train, public buildings, etc.); wastage of electricity and water; employment policies; general information about Panchayat, legislative assembly, and parliament.
Transport and Communication – Means of transport and communication; Rules for pedestrians and transport; Effects of means of communication on the lifestyle.

Personal Hygiene – External parts of our body and their cleanliness; general information about the internal parts of the body; Balance diet and its importance; Common diseases (gastroenteritis, amoebiosis, methemoglobin, anemia, fluorosis, malaria, dengue.) their causes and methods of prevention; Pulse Polio campaign.

Living Beings: Levels of organization of plants and animals, diversity of living organisms, state flower, state tree, state bird, state animal; knowledge of reserve forest and wildlife (national parks, sanctuaries, tiger reserve, world heritage), conservation of species of plants and animals, knowledge of Kharif and Rabi crops.

Matter and Energy – Common properties of substances (color, state, ductility, solubility) various types of fuels; types of energy and transformation of one form into another; Applications of energy in daily life, sources of light, common properties of light. > Basic knowledge of air, water, forest, wetlands, and deserts; different kinds of pollution, renewable and non-renewable resources of energy in Rajasthan and concept of their conservation; weather and climate; water cycle.

Concept and scope of Environment Studies. Significance of Environment Studies, Integrated Environment Studies. Environmental Studies & Environmental Education learning Principles. Scope & relation to Science & Social Science. Approaches of presenting concepts Activities

Experimentation/Practical Work Discussion. Comprehensive and Continuous Evaluation. Teaching material/Aids. Problems of Teaching.

UPTET Teacher Eligibility Test Paper II Detailed Exam Syllabus

Section Number of Question Total Marks
Child Development, Learning & Pedagogy 30 Question 30 Marks
1st Language (Hindi) 30 Question 30 Marks 
2nd Language (Any one from English, Urdu & Sanskrit) 30 Question 30 Marks
A. Mathematics/ Science B. Social Studies/ Social Science 60 Question 60 Marks

 

UPTET Paper II Detailed Exam Syllabus

In The UPTET Paper II

There Are Mainly Five Sections Child Development, Learning & Pedagogy 1st Language (Hindi), 2nd Language (Anyone from English, Urdu & Sanskrit), Mathematics, Environmental Studies. We Suggest The Candidates To Focus On Only These Five Subjects And Practice As Much As You Can. Here We Are Providing You Detailed Syllabus UPTET.

Paper-II – Child Development, Learning & Pedagogy

Child Development

Concept of development and its relationship with learning Principles of the development of children

Influence of Heredity & Environment Socialization processes: Social world & children (Teacher, Parents and Peers) Piaget, Kohlberg and Vygotsky: constructs and critical perspectives Concepts of child-centered and progressive education Critical perspective of the construct of Intelligence Multi-Dimensional Intelligence Language & Thought Gender as a social construct; gender roles, gender- bias and educational practice Individual differences among learners, understanding differences based on diversity of language, caste, gender, community, religion, etc. The distinction between Assessment for learning and assessment of learning; School-Based Assessment, Continuous & Comprehensive Evaluation: perspective and practice

Formulating appropriate questions for assessing readiness levels of learners; for enhancing learning and critical thinking in the classroom and for assessing learner Achievement.

Concept Of Inclusive Education & Understanding Children with Special Needs

Addressing learners from diverse backgrounds including disadvantaged and deprived Addressing the needs of children with learning difficulties, ‘impairment’ etc Addressing the Talented, Creative, Specially abled Learners.

Learning & Pedagogy

How children think and learn; how and why children ‘fail’ to achieve success in school performance Basic processes of teaching and learning; children’s strategies of learning; learning as a social activity; social context of learning. Child as a problem solver and a ‘scientific investigator’ Alternative conception of learning in children; understanding children’s ‘errors’ as significant steps in the learning process. Cognition & Emotions Motivation and learning. Factors contributing to learning personal & environmental.

Paper-II – Language 1(Hindi)

Reading unseen passages- two passages one prose or drama and one poem with questions on comprehension, inference, grammar and verbal ability (Prose passage may Be literary, scientific, narrative or discursive)

Learning and acquisition Principles of language Teaching Role of listening and speaking; function of language and how children use it as a tool Critical perspective on the role of grammar in learning a language for communicating ideas verbally and in written form; Challenges of teaching language in a diverse classroom; language difficulties, errors and disorders Language Skills Evaluating language comprehension and proficiency: speaking, listening, reading and writing Teaching-learning materials: Textbook, multi-media materials, multilingual resource of the classroom Remedial Teaching.

Paper-II – Language 2 (English/ Urdu/ Sanskrit)

Two unseen prose passages (discursive or literary or narrative or scientific) with questions on comprehension, grammar, and verbal ability

Learning and acquisition Principles of language Teaching Role of listening and speaking; function of language and how children use it as a tool Critical perspective on the role of grammar in learning a language for communicating ideas verbally and in written form; Challenges of teaching language in a diverse classroom; language difficulties, errors and disorders Language Skills Evaluating language comprehension and proficiency: speaking, listening, reading and writing Teaching-learning materials: Textbook, multi-media materials, multilingual resource of the classroom Remedial Teaching.

Paper-II -Mathematics & Science

Mathematics

Pedagogical issues, Number System, Algebra, Geometry, Mensuration, Data Handling.

Science

Pedagogical issues, Food, Materials, the word of living, Natural resources, how things work, natural phenomena.

Paper-II -Social Studies

History

When, Where and How, The Earliest Societies, The First Farmers and Herders, The First Cities, Early States, New Ideas, The First Empire,  Contacts with Distant lands, Political Developments, Culture and Science, New Kings and Kingdoms, Sultans of Delhi, Architecture, Creation of an Empire, Social Change, Regional Cultures, The Establishment of Company Power, Rural Life and Society, Colonialism and Tribal Societies, The Revolt of 1857 – 58, Women and reform, Challenging the Caste System, The Nationalist Movement, India After Independence.

Geography

Geography as a social study and as a science, Planet: Earth in the solar system, Globe, Environment in its totality: natural and human environment. Air, Water, Human Environment: settlement, transport and communication, Resources: Types- Natural and Human, Agriculture

Social & Political Science

Diversity, Government, Local Government, Making a Living, Democracy, State Government, Understanding Media, Unpacking Gender, The Constitution, Parliamentary Government, Social Justice and the Marginalized

Pedagogical Issues

Concept & Nature of Social Science/Social Studies, Class Room Processes, activities, and discourse, Developing Critical thinking, Enquiry/Empirical Evidence, Problems of teaching Social Science/Social Studies, Sources – Primary & secondary, Projects Work.

Download UPTET Exam Paper 1 Syllabus PDF

Download UPTET English paper 2 Syllabus PDF

Final Words

So, Candidates, this is another opportunity in your hand. Put your 100% effort into this examination. Start preparing today so that you leave no doubt in your preparation.

ALL THE BEST !!

UPTET हिन्‍दी पाठ्यक्रम

Uttar Pradesh Teacher Eligibility Test (UPTET)
Detailed Syllabus & Exam Pattern of UPTET

यूपीटीईटी पेपर  I पाठ्यक्रम (कक्षा- 1 से 5 तक)

सभी उम्मीदवार जो UPTET शिक्षक पात्रता परीक्षा की परीक्षा के लिए अपीयर होने जा रहे हैं, वे Pravesh Result के इस पेज पर उपलब्ध कराई गई अध्ययन सामग्री की जांच कर सकते हैं। यहां हमने कैंडिडेट्स आसान संदर्भ के लिए इस पेज पर UPTET शिक्षक पात्रता परीक्षा परीक्षा सिलेबस और परीक्षा पैटर्न साझा किया है। आप यहां से UPTET टेस्ट सिलेबस पीडीएफ भी डाउनलोड कर सकते हैं और UPTET शिक्षक पात्रता परीक्षा लिखित परीक्षा में अच्छा प्रदर्शन करने के लिए अपनी तैयारी की रणनीति को बढ़ावा दे सकते हैं।

UPTET | परीक्षा का विवरण

UP ने TET शिक्षक पात्रता परीक्षा के लिए एक अधिसूचना जारी की है। UPTET शिक्षक पात्रता परीक्षा की परीक्षा के लिए ऑनलाइन आवेदन आमंत्रित किए गए हैं। उम्मीदवार पात्रता मानदंड की जांच कर सकते हैं, ऑनलाइन प्रक्रिया लागू कर सकते हैं

UPTET | चयन प्रक्रिया

निम्नलिखित योग्यता के आधार पर शैक्षणिक योग्यता यूपीटीईटी शिक्षक पात्रता परीक्षा के केंद्रीय बोर्ड के पदों के लिए आवेदन करने वाले उम्मीदवारों का चयन किया जाएगा:

चयन प्रक्रिया

यूपीटीईटी बेसिक एजुकेशन बोर्ड यूपीटीईटी के राज्य में शिक्षक बनने के लिए योग्य उम्मीदवारों को शॉर्टलिस्ट करने के लिए सेकंडरी एजुकेशन यूपीटीईटी शिक्षक पात्रता परीक्षा के सेंटल बोर्ड का आयोजन करता है। सेकंडरी एजुकेशन यूपीटीईटी शिक्षक पात्रता परीक्षा के केंद्रीय बोर्ड के आधार पर, राज्य के विभिन्न सरकारी स्कूलों में प्राथमिक स्तर (कक्षा एक से कक्षा पांचवीं) और उच्च प्राथमिक स्तर (कक्षा छठी से आठवीं कक्षा) के लिए विभिन्न सरकारी स्कूलों में पढ़ाने के लिए पात्र हो जाते हैं।

द्वितीयक शिक्षा के केन्द्रीय बोर्ड में दो पेपर शामिल हैं। UPTET पेपर I को उन उम्मीदवारों द्वारा दिया जाना चाहिए जो कक्षा I से कक्षा V को पढ़ाना चाहते हैं, जो प्राथमिक स्तर पर है जबकि UPTET पेपर II को उन उम्मीदवारों द्वारा दिया जाना चाहिए जो कक्षा छठी से आठवीं कक्षा के लिए शिक्षक बनना चाहते हैं, अर्थात उच्च प्राथमिक स्तर पर।

UPTET में 60% अंक हासिल करने वाले सामान्य श्रेणी के उम्मीदवारों को योग्य UPTET परीक्षा माना जाएगा, जबकि आरक्षित श्रेणी के छात्र जो 55% अंक प्राप्त करते हैं, वे UPTET शिक्षक पात्रता परीक्षा उत्तीर्ण करेंगे। परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले अभ्यर्थियों को पात्रता प्रमाणपत्र दिया जाएगा जो 5 वर्ष तक के लिए देय होगा।

UPTET | परीक्षा पैटर्न।

अपनी परीक्षा की तैयारी के लिए एक सही रणनीति बनाने के लिए UPTET परीक्षा पैटर्न देखें। UPTET सिलेबस और परीक्षा पैटर्न परीक्षा में कठिनाई स्तर और परीक्षा में पूछे जाने वाले प्रश्नों के प्रकार के बारे में एक विचार प्राप्त करने में मदद करता है। यूपीटीईटी लिखित परीक्षा में केवल योग्य और प्रतिभाशाली उम्मीदवारों का चयन करेगा। इसलिए आपको UPTET शिक्षक पात्रता परीक्षा परीक्षा में जितने भी प्रश्न हैं, उन्हें हल करने के लिए अपने विषय ज्ञान और कौशल में सुधार करना होगा।

केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा 2019 में दोनों प्रश्नपत्रों का पैटर्न एक जैसा है। हालाँकि, चुने गए पेपर के अनुसार सेक्शन और उनकी कठिनाई स्तर अलग-अलग होते हैं।

  • ऑब्जेक्टिव टाइप पेपर
  • अधिकतम अंक: 150
  • प्रश्न की संख्या: 150
  • पेपर की अवधि: 2 घंटे और 30 मिनट
  • सभी प्रश्नों पर समान अंक हैं
  • कोई नेगेटिव मार्किंग नहीं होगी

UPTET एग्जाम पैटर्न 2019: पेपर – 1 

विषय प्रश्नों की संख्या अंक
बाल विकास एवं शिक्षाशास्त्र (Child Development and Pedagogy) 30 30
भाषा – 1 (Language I) Compulsory 30 30
भाषा – 2 (Language II) Compulsory 30 30
गणित (Mathematics) 30 30
पर्यावरण अध्ययन (Environmental Studies) 30 30
कुल (समय 150 मिनट्स) 150 प्रश्न 150 अंक

UPTET पेपर I विस्तृत परीक्षा पाठ्यक्रम

UPTET पेपर I में मुख्य रूप से पांच खंड बाल विकास, शिक्षण और शिक्षाशास्त्र प्रथम भाषा (हिंदी), द्वितीय भाषा (अंग्रेजी, उर्दू और संस्कृत में कोई भी), गणित, पर्यावरण अध्ययन शामिल हैं। हम अभ्यर्थियों को केवल इन पांच विषयों पर ध्यान केंद्रित करने और जितना संभव हो उतना अभ्यास करने का सुझाव देते हैं। यहां हम आपको विस्तृत सिलेबस UPTET शिक्षक पात्रता परीक्षा प्रदान कर रहे हैं।

पेपर I- बाल विकास, शिक्षण और शिक्षाशास्त्र

बाल विकास: विकास और विकास की अवधारणा, सिद्धांत और विकास के आयाम। कारक विकास को स्नेह करते हैं (विशेषकर परिवार और स्कूल के संदर्भ में) और सीखने के साथ इसका संबंध। आनुवंशिकता और पर्यावरण की भूमिका।

सीखने और उसकी प्रक्रियाओं का अर्थ और संकल्पना। कारक विद्या। सीखने के सिद्धांत और इसके निहितार्थ। बच्चे कैसे सीखते और सोचते हैं। सीखने के लिए प्रेरणा और निहितार्थ।

व्यक्तिगत अंतर: अर्थ, प्रकार और कारक संबंध व्यक्तिगत अंतर भाषा, लिंग, समुदाय, जाति और धर्म के आधार पर व्यक्तिगत अंतर को समझना। व्यक्तित्व: अवधारणा और प्रकार के व्यक्तित्व, इसे आकार देने के लिए जिम्मेदार कारक। इसका माप। खुफिया: संकल्पना, सिद्धांत और इसका माप, बहुआयामी खुफिया

विविध शिक्षार्थियों को समझना: पिछड़े, मानसिक रूप से मंद, प्रतिभाशाली, रचनात्मक, वंचित और वंचित, विशेष रूप से-वंचित। सीखने की कठिनाइयाँ। समायोजन: संकल्पना और समायोजन के तरीके। समायोजन में शिक्षक की भूमिका।

शिक्षण सीखने की प्रक्रिया, राष्ट्रीय पाठ्यचर्या की रूपरेखा 2005 के संदर्भ में शिक्षण रणनीतियों और विधियों को सिखाना। मूल्यांकन, मापन और मूल्यांकन के अर्थ और उद्देश्य। व्यापक और सतत मूल्यांकन। उपलब्धि परीक्षण की कसौटी। कार्रवाई पर शोध। शिक्षा का अधिकार अधिनियम 2009 (शिक्षकों की भूमिका और दायित्व)

पेपर I- भाषा 1 (हिंदी)

अपठित गद्यांश, दो गद्य एक नाटक या नाटक और एक कविता को समझने पर प्रश्न, अनुमान, व्याकरण और मौखिक क्षमता (गद्य गद्य साहित्यिक, वैज्ञानिक, कथात्मक या विवेकी हो सकता है)

भाषा सीखने और सीखने के सिद्धांतों को सुनना और बोलना सिखाना; भाषा का कार्य और बच्चे कैसे इसे एक उपकरण के रूप में उपयोग करते हैं, मौखिक रूप से और लिखित रूप में विचारों को संप्रेषित करने के लिए भाषा सीखने में व्याकरण की भूमिका पर महत्वपूर्ण परिप्रेक्ष्य; एक विविध कक्षा में भाषा सिखाने की चुनौतियाँ; भाषा की कठिनाइयाँ, त्रुटियाँ और विकार भाषा कौशल भाषा की समझ और दक्षता का मूल्यांकन: बोलना, सुनना, पढ़ना और लिखना शिक्षण-शिक्षण सामग्री: पाठ्यपुस्तक, बहु-मीडिया सामग्री, कक्षा का बहुभाषी संसाधन उपचारात्मक शिक्षण।

पेपर I- भाषा 1 (अंग्रेजी / उर्दू / संस्कृत)

समझ, भाषा के विकास का शिक्षण, भाषा कौशल।

पेपर I- गणित

एक करोड़ तक की कुल संख्या, स्थान मूल्य, तुलना, मौलिक गणितीय संक्रियाएं: जोड़, घटाव, गुणा और भाग; भारतीय मुद्रा।

भिन्न की परिभाषा, उचित भिन्न, समान भाजक के कागज अंश की तुलना, मिश्रित अंश, असमान हर के समुचित अंशों की तुलना, भिन्न का जोड़ और उपस्टेशन। प्राइम और कम्पोजिट नंबर, प्राइम फैक्टर, सबसे कम कॉमन मल्टीपल (LCM) और हाईएस्ट कॉमन फैक्टर (HCF)।

विश्वविद्यालय के कानून, औसत, लाभ-हानि, साधारण ब्याज।

जगह और घुमावदार सतहों, विमान और ठोस ज्यामितीय आंकड़े, विमान ज्यामितीय आंकड़ों की समृद्धि; पिंट, रेखा, किरण, रेखा खंड; कोण और उनके प्रकार। लंबाई, वजन, क्षमता, समय, माप एफ क्षेत्र और उनकी मानक इकाइयों और उनके बीच संबंध; वर्ग और आयताकार वस्तुओं की समतल सतहों का क्षेत्रफल और परिधि।

गणित / तार्किक सोच की प्रकृति। पाठ्यक्रम में गणित का स्थान। भाषा गणित। सामुदायिक गणित।

औपचारिक और अनौपचारिक तरीकों के माध्यम से मूल्यांकन। शिक्षण की समस्याएं। त्रुटि विश्लेषण और सीखने और शिक्षण से संबंधित पहलुओं। नैदानिक ​​और उपचारात्मक शिक्षण।

पेपर I- पर्यावरण अध्ययन।

पारिवारिक व्यक्तिगत संबंध, परमाणु और संयुक्त परिवार, सामाजिक दुर्व्यवहार (बाल विवाह, दहेज प्रथा, बाल श्रम, चोरी); लत (नशा, धूम्रपान) और इसके व्यक्तिगत, सामाजिक और आर्थिक बुरे प्रभाव।

कपड़े और आवास – विभिन्न मौसमों के लिए कपड़े; घर पर कपड़े का रखरखाव; हथकरघा और बिजली करघा; रहने वाले प्राणियों के आवास, विभिन्न प्रकार के घर; घरों और पड़ोसी क्षेत्रों की सफाई; मकान बनाने के लिए विभिन्न प्रकार की सामग्री।

पेशा – अपने परिवेश (सिलाई के कपड़े, बागवानी, खेती, पशु पालन, सब्जी विक्रेता आदि), छोटे और कुटीर उद्योगों का पेशा; राजस्थान राज्य के प्रमुख उद्योग, उपभोक्ता संरक्षण, सहकारी समितियों की आवश्यकता।

सार्वजनिक स्थान और संस्थान – स्कूल, अस्पताल, डाकघर, बस स्टैंड, रेलवे स्टेशन जैसे सार्वजनिक स्थान; सार्वजनिक संपत्ति (स्ट्रीट लाइट, सड़क, बस, ट्रेन, सार्वजनिक भवन आदि); बिजली और पानी की बर्बादी; रोजगार नीतियां; पंचायत, विधान सभा और संसद के बारे में सामान्य जानकारी।

परिवहन और संचार – परिवहन और संचार के साधन; पैदल यात्रियों और परिवहन के लिए नियम; जीवन शैली पर संचार के साधनों का प्रभाव।

Uttar Pradesh Teacher Eligibility Test (UPTET)
Detailed Syllabus & Exam Pattern of UPTET

UPTET पेपर II पाठ्यक्रम (कक्षा- 6 से 8 तक)

सभी उम्मीदवार जो UPTET शिक्षक पात्रता परीक्षा की परीक्षा के लिए अपीयर होने जा रहे हैं, वे Pravesh Result के इस पेज पर उपलब्ध कराई गई अध्ययन सामग्री की जांच कर सकते हैं। यहां हमने कैंडिडेट्स आसान संदर्भ के लिए इस पेज पर UPTET शिक्षक पात्रता परीक्षा परीक्षा सिलेबस और परीक्षा पैटर्न साझा किया है। आप यहां से UPTET टेस्ट सिलेबस पीडीएफ भी डाउनलोड कर सकते हैं और UPTET शिक्षक पात्रता परीक्षा लिखित परीक्षा में अच्छा प्रदर्शन करने के लिए अपनी तैयारी की रणनीति को बढ़ावा दे सकते हैं।

UPTET | परीक्षा का विवरण

UPTET

UPTET शिक्षक पात्रता परीक्षा के लिए एक अधिसूचना जारी की है। UPTET शिक्षक पात्रता परीक्षा की परीक्षा के लिए ऑनलाइन आवेदन आमंत्रित किए गए हैं। उम्मीदवार पात्रता मानदंड की जांच कर सकते हैं, ऑनलाइन प्रक्रिया लागू कर सकते हैं

UPTET | चयन प्रक्रिया।

निम्नलिखित योग्यता के आधार पर शैक्षणिक योग्यता यूपीटीईटी शिक्षक पात्रता परीक्षा के केंद्रीय बोर्ड के पदों के लिए आवेदन करने वाले उम्मीदवारों का चयन किया जाएगा:

चयन प्रक्रिया

यूपीटीईटी बेसिक एजुकेशन बोर्ड राज्य में शिक्षक बनने के लिए योग्य उम्मीदवारों को शॉर्टलिस्ट करने के लिए सेकंडरी एजुकेशन यूपीटीईटी शिक्षक पात्रता परीक्षा के सेंटल बोर्ड का आयोजन करता है। सेकंडरी एजुकेशन यूपीटीईटी शिक्षक पात्रता परीक्षा के केंद्रीय बोर्ड के आधार पर, राज्य के विभिन्न सरकारी स्कूलों में प्राथमिक स्तर (कक्षा एक से कक्षा पांचवीं) और उच्च प्राथमिक स्तर (कक्षा छठी से आठवीं कक्षा) के लिए विभिन्न सरकारी स्कूलों में पढ़ाने के लिए पात्र हो जाते हैं।

द्वितीयक शिक्षा के केन्द्रीय बोर्ड में दो पेपर शामिल हैं। UPTET पेपर I को उन उम्मीदवारों द्वारा दिया जाना चाहिए जो कक्षा I से कक्षा V को पढ़ाना चाहते हैं, जो प्राथमिक स्तर पर है जबकि UPTET पेपर II को उन उम्मीदवारों द्वारा दिया जाना चाहिए जो कक्षा छठी से आठवीं कक्षा के लिए शिक्षक बनना चाहते हैं, अर्थात उच्च प्राथमिक स्तर पर।

UPTET में 60% अंक हासिल करने वाले सामान्य श्रेणी के उम्मीदवारों को योग्य UPTET परीक्षा माना जाएगा, जबकि आरक्षित श्रेणी के छात्र जो 55% अंक प्राप्त करते हैं, वे UPTET शिक्षक पात्रता परीक्षा उत्तीर्ण करेंगे। परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले अभ्यर्थियों को पात्रता प्रमाणपत्र दिया जाएगा जो 7 वर्ष तक के लिए देय होगा।

UPTET | परीक्षा पैटर्न।

अपनी परीक्षा की तैयारी के लिए एक सही रणनीति बनाने के लिए UPTET परीक्षा पैटर्न देखें। UPTET सिलेबस और परीक्षा पैटर्न परीक्षा में कठिनाई स्तर और परीक्षा में पूछे जाने वाले प्रश्नों के प्रकार के बारे में एक विचार प्राप्त करने में मदद करता है। यूपीटीईटी लिखित परीक्षा में केवल योग्य और प्रतिभाशाली उम्मीदवारों का चयन करेगा। इसलिए आपको UPTET शिक्षक पात्रता परीक्षा परीक्षा में जितने भी प्रश्न हैं, उन्हें हल करने के लिए अपने विषय ज्ञान और कौशल में सुधार करना होगा।

केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा 2019 में दोनों प्रश्नपत्रों का पैटर्न एक जैसा है। हालाँकि, चुने गए पेपर के अनुसार सेक्शन और उनकी कठिनाई स्तर अलग-अलग होते हैं।

  • ऑब्जेक्टिव टाइप पेपर
  • अधिकतम अंक: 150
  • प्रश्न की संख्या: 150
  • पेपर की अवधि: 2 घंटे और 30 मिनट
  • सभी प्रश्नों पर समान अंक हैं
  • कोई नेगेटिव मार्किंग नहीं होगी
विषय प्रश्नों की संख्या अंक
1. बाल विकास एवं शिक्षाशास्त्र (Child Development and Pedagogy)

Compulsory

30 30
2. भाषा – 1 (Language I) Compulsory 30 30
3. भाषा – 2 (Language II) Compulsory 30 30
4. गणित और विज्ञान

(गणित और विज्ञान के शिक्षकों के लिए)

या

5. सामाजिक अध्ययन / सामाजिक विज्ञान

(सोशल स्टडीज / सोशल साइंस के शिक्षकों के लिए)

60 60
कुल (समय 150 मिनट्स) 150 प्रश्न 150 अंक

UPTET पेपर II विस्तृत परीक्षा सिलेबस

UPTET पेपर II में

मुख्य रूप से पांच खंड बाल विकास, शिक्षण और शिक्षाशास्त्र प्रथम भाषा (हिंदी), द्वितीय भाषा (अंग्रेजी, उर्दू और संस्कृत से कोई भी), गणित, पर्यावरण अध्ययन हैं। हम अभ्यर्थियों को केवल इन पांच विषयों पर ध्यान केंद्रित करने और जितना संभव हो उतना अभ्यास करने का सुझाव देते हैं। यहाँ हम आपको विस्तृत सिलेबस UPTET प्रदान कर रहे हैं।

पेपर II – बाल विकास, शिक्षण और शिक्षाशास्त्र

बाल विकास

विकास की अवधारणा और बच्चों के विकास के सिद्धांत सीखने के साथ इसका संबंध

आनुवंशिकता और पर्यावरण के प्रभाव समाजीकरण की प्रक्रियाएं: सामाजिक दुनिया और बच्चे (शिक्षक, माता-पिता और सहकर्मी) पियागेट, कोह्लबर्ग और वायगोत्स्की: निर्माण और महत्वपूर्ण दृष्टिकोण बाल-केंद्रित और प्रगतिशील शिक्षा के परिप्रेक्ष्य बहु-आयामी खुफिया भाषा के निर्माण का राजनीतिक दृष्टिकोण। एक सामाजिक निर्माण के रूप में सोचा लिंग; लिंग भूमिकाएँ, लिंग- पूर्वाग्रह और शैक्षिक अभ्यास शिक्षार्थियों के बीच व्यक्तिगत अंतर, भाषा की विविधता, जाति, लिंग, समुदाय, धर्म आदि के आधार पर अंतर को समझना और सीखने के आकलन के लिए मूल्यांकन के बीच अंतर; स्कूल आधारित मूल्यांकन, सतत और व्यापक मूल्यांकन: परिप्रेक्ष्य और अभ्यास

शिक्षार्थियों के तत्परता के स्तर का आकलन करने के लिए उपयुक्त प्रश्नों का निर्माण; कक्षा में सीखने और महत्वपूर्ण सोच को बढ़ाने के लिए और सीखने वाले की उपलब्धि का आकलन करने के लिए।

समावेशी शिक्षा की अवधारणा और विशेष आवश्यकता वाले बच्चों को समझना

वंचितों और वंचितों सहित विभिन्न पृष्ठभूमि के शिक्षार्थियों को सीखने की कठिनाइयों के साथ बच्चों की जरूरतों को संबोधित करना आदि, प्रतिभाशाली, रचनात्मक, विशेष रूप से विकलांग शिक्षार्थियों को संबोधित करना।

सीखना और शिक्षाशास्त्र

बच्चे कैसे सोचते और सीखते हैं; कैसे और क्यों बच्चे स्कूल के प्रदर्शन में सफलता हासिल करने के लिए ‘असफल’ होते हैं, शिक्षण और सीखने की बुनियादी प्रक्रियाएं; बच्चों की सीखने की रणनीति; एक सामाजिक गतिविधि के रूप में सीखना; सीखने का सामाजिक संदर्भ। एक बच्चे के लिए एक समस्या हल करने वाला और एक ‘वैज्ञानिक अन्वेषक’ बच्चों में सीखने की वैकल्पिक अवधारणा; बच्चों की ‘त्रुटियों’ को सीखने की प्रक्रिया के महत्वपूर्ण चरणों के रूप में समझना। अनुभूति और भावनाएँ प्रेरणा और सीख। व्यक्तिगत और पर्यावरणीय सीखने में योगदान करने वाले कारक।

पेपर II – भाषा 1 (हिंदी)

अनदेखी गद्यांशों को पढ़ना- दो गद्य एक नाटक या नाटक और एक कविता को समझने पर प्रश्न, अनुमान, व्याकरण और मौखिक क्षमता (गद्य गद्य साहित्यिक, वैज्ञानिक, कथात्मक या विवेकी हो सकता है)

भाषा सीखने और सीखने के सिद्धांतों को सुनना और बोलना सिखाना; भाषा का कार्य और बच्चे कैसे इसे एक उपकरण के रूप में उपयोग करते हैं, मौखिक रूप से और लिखित रूप में विचारों को संप्रेषित करने के लिए भाषा सीखने में व्याकरण की भूमिका पर महत्वपूर्ण परिप्रेक्ष्य; एक विविध कक्षा में भाषा सिखाने की चुनौतियाँ; भाषा की कठिनाइयाँ, त्रुटियाँ और विकार भाषा कौशल भाषा की समझ और दक्षता का मूल्यांकन: बोलना, सुनना, पढ़ना और लिखना शिक्षण-शिक्षण सामग्री: पाठ्यपुस्तक, बहु-मीडिया सामग्री, कक्षा का बहुभाषी संसाधन उपचारात्मक शिक्षण।

पेपर II – भाषा 2 (अंग्रेजी / उर्दू / संस्कृत)

बोध, व्याकरण और मौखिक क्षमता के सवालों के साथ दो अनदेखी गद्य मार्ग (विवेकात्मक या साहित्यिक या कथा या वैज्ञानिक)

भाषा सीखने और सीखने के सिद्धांतों को सुनना और बोलना सिखाना; भाषा का कार्य और बच्चे कैसे इसे एक उपकरण के रूप में उपयोग करते हैं, मौखिक रूप से और लिखित रूप में विचारों को संप्रेषित करने के लिए भाषा सीखने में व्याकरण की भूमिका पर महत्वपूर्ण परिप्रेक्ष्य; एक विविध कक्षा में भाषा सिखाने की चुनौतियाँ; भाषा की कठिनाइयाँ, त्रुटियाँ और विकार भाषा कौशल भाषा की समझ और दक्षता का मूल्यांकन: बोलना, सुनना, पढ़ना और लिखना शिक्षण-शिक्षण सामग्री: पाठ्यपुस्तक, बहु-मीडिया सामग्री, कक्षा का बहुभाषी संसाधन उपचारात्मक शिक्षण।

पेपर II -गणित 

अंक गणित

शैक्षणिक मुद्दे, संख्या प्रणाली, बीजगणित, ज्यामिति, मेंसुरेशन, डेटा हैंडलिंग।

विज्ञान

शैक्षणिक मुद्दे, भोजन, सामग्री, जीने का शब्द, प्राकृतिक संसाधन, चीजें कैसे काम करती हैं, प्राकृतिक घटनाएं।

पेपर II -सोशल स्टडीज

इतिहास

कब, कहां और कैसे, शुरुआती समाज, पहला किसान और चरवाहा, पहला शहर, शुरुआती राज्य, नए विचार, पहला साम्राज्य, दूर देश, राजनीतिक विकास, संस्कृति और विज्ञान, नए राजा और राज्यों के साथ संपर्क, दिल्ली के सुल्तान , वास्तुकला, एक साम्राज्य का निर्माण, सामाजिक परिवर्तन, क्षेत्रीय संस्कृति, कंपनी पावर की स्थापना, ग्रामीण जीवन और समाज, उपनिवेशवाद और आदिवासी समाज, 1857 का विद्रोह – 58, महिला और सुधार, द सिस्टेम सिस्टम को चुनौती देते हुए, राष्ट्रवादी आंदोलन, आजादी के बाद का भारत।

भूगोल

 एक सामाजिक अध्ययन और एक विज्ञान के रूप में भूगोल, ग्रह: सौर मंडल में पृथ्वी, ग्लोब, पर्यावरण अपनी समग्रता में: प्राकृतिक और मानव पर्यावरण। वायु, जल, मानव पर्यावरण: निपटान, परिवहन और संचार, संसाधन: प्रकार- प्राकृतिक और मानव, कृषि

सामाजिक और राजनीतिक विज्ञान

विविधता, सरकार, स्थानीय सरकार, एक जीविका, लोकतंत्र बनाना, राज्य सरकार, मीडिया को समझना, अनपैकिंग जेंडर, संविधान, संसदीय सरकार, सामाजिक न्याय और सीमांत

शैक्षणिक मुद्दे

सामाजिक विज्ञान / सामाजिक अध्ययन की अवधारणा और प्रकृति, कक्षा कक्ष प्रक्रियाएं, गतिविधियाँ और प्रवचन, विकासशील गंभीर सोच, पूछताछ / अनुभवजन्य साक्ष्य, सामाजिक विज्ञान / सामाजिक अध्ययन सिखाने की समस्याएँ, स्रोत – प्राथमिक और माध्यमिक, परियोजनाएँ कार्य।

यूपीटीईटी पेपर I पाठ्यक्रम (कक्षा- 1 से 5 तक) डाउनलोड करे

यूपीटीईटी पेपर  II पाठ्यक्रम (कक्षा- 6 से 8 तक) डाउनलोड करे

अंतिम शब्द

 तो, उम्मीदवार, यह आपके हाथ में एक और अवसर है। इस परीक्षा में अपना 100% रखें। आज ही तैयारी शुरू कर दें ताकि आप अपनी तैयारी में कोई संदेह न छोड़ें।

शुभकामनाएं !!

 

Leave a Reply